आधुनिक स्ट्रॉ रीपर : फसल अवशेषों की कटाई बनाएं आसान

आधुनिक स्ट्रॉ रीपर : फसल अवशेषों की कटाई बनाएं आसान

स्ट्रॉ रीपर भूसा बनाकर कैसे बढ़ाता है किसानों की कमाई जानें यहां

खेती के कामों में कृषि मशीनरी का उपयोग लगातार बढ़ता जा रहा है। अब भारतीय किसान खेती के कार्यों में मानवीय श्रम की जगह कृषि उपकरणों और खेती के आधुनिक उपकरण को प्राथमिकता देने लगे हैं। फसल की बुवाई से लेकर कटाई तक के कार्य करने के लिए बाजार में कई कंपनियों के कृषि उपकरण उपलब्ध है। सरकार की ओर से समय-समय पर कृषि यंत्रों पर सब्सिडी भी उपलब्ध कराई जाती है। किसान भाई स्ट्रॉ रीपर का उपयोग करके अपनी कमाई को बड़ा सकते है। ट्रैक्टरगुरु की इस पोस्ट में हम आपको प्रमुख कृषि उपकरण आधुनिक स्ट्रॉ रीपर और स्ट्रा रीपर की कीमत के बारे में सभी आवश्यक जानकारी देंगे।

आधुनिक स्ट्रॉ रीपर क्या है और स्ट्रॉ रीपर कैसे करता है काम जानें यहां

फसल कटाई के बाद खेतों में उपज के अवशेष रह जाते हैं। अगली फसल की बुवाई से पहले इन अवशेषों की कटाई अगर मजदूरों से कराई जाए तो समय और पैसा बहुत अधिक खर्च होता है। फसल अवशेषों को काटने के लिए बाजार में कई कृषि उपकरण उपलब्ध है, स्ट्रॉ रीपर फसल अवशेषों को काटने में सबसे ज्यादा प्रभावशाली कृषि उपकरण है। यह कृषि यंत्र एक साथ तीन तरह के काम करता है। इसमें काटना, थे्रशिंग करना और पुआल साफ करना या भूसा बनाना शामिल है। इसका ट्रैक्टरों के साथ प्रयोग किया जाता है तो यह शानदार काम करता है और ईंधन की खपत भी कम होती है।

स्ट्रॉ रीपर की विशेषताएं और खासियत

  • कम समय में अधिक काम करता है।
  • इसके उपयोग से किसानों के समय और पैसे की बचत होती है।
  • यह फसल अवशेष व पराली को काटकर उनका प्रबंधन करता है और किसानों की आमदनी बढ़ती है।
  • केंद्र व राज्य सरकारों द्वारा समय-समय पर फसल अवशेष प्रबंधन में काम आने वाले कृषि यंत्रों पर सब्सिडी दी जाती है जिनमें स्ट्रॉ रीपर भी शामिल है।
  • इससे किसान पराली काट सकता है जिससे किसानों को खेत में पराली नहीं जलानी पड़ती है और पर्यावरण का नुकसान नहीं होता है।

स्ट्रॉ रीपर पर सब्सिडी

देश में लघु और सीमांत किसानों की संख्या बहुत ज्यादा है और ये किसान कमजोर आर्थिक स्थिति और सीमित संसाधनों के चलते खेत में आधुनिक कृषि यंत्रों का बहुत कम उपयोग कर पाते हैं। ऐसे किसानों की आर्थिक स्थिति को सुधारने और कृषि को लाभप्रद बनाने के उद्देश्य से केंद्र व राज्य सरकारें समय-समय पर कृषि यंत्रों पर सब्सिडी उपलब्ध कराती है। किसान भाइयों को सरकार की योजनाओं का ध्यान रखना चाहिए और योजना के आने पर आवेदन करना चाहिए। सरकार की ओर से 50 प्रतिशत तक की सब्सिडी कृषि यंत्रों पर उपलब्ध कराई जाती है।

आधुनिक स्ट्रॉ रीपर की कीमत

देश में कई कंपनियों के स्ट्रॉ रीपर बिक्री के लिए उपलब्ध है। किसान अपने बजट के अनुसार खरीद सकते हैं। ट्रैक्टर गुरु पर भी प्रमुख कंपनियों के स्ट्रॉ रीपर उपलब्ध है। यहां किसान इनकी विशेषताएँ और कीमत के बारे में जान सकते हैं।

किसान भाइयों, खेती में कृषि यंत्रों का उपयोग करने वाला किसान अब ज्यादा मुनाफ़ा कमा रहा है। आधुनिक कृषि उपकरण और कृषि यंत्रों के उपयोग से खेती की लागत कम होती है और सरकार द्वारा सब्सिडी भी उपलब्ध कराई जाती है। ट्रैक्टर गुरु आपको समय-समय पर खेती में उपयोगी कृषि यंत्रों के बारे में जानकारी देता रहेगा। इसलिए हमेशा बने रहें ट्रैक्टरगुरु के साथ।

जाने स्ट्रॉ रीपर के कुछ सवालों के जवाब

प्रश्न: आधुनिक कृषि उपकरण स्ट्रा रीपर क्या है?

उत्तर: स्ट्रॉ रीपर फसल अवशेषों को काटने में सबसे ज्यादा प्रभावशाली कृषि उपकरण है।

प्रश्न: स्ट्रॉ रीपर क्या-क्या काम करता है?

उत्तर: स्ट्रॉ रीपर एक साथ तीन तरह के काम करता है। इसमें काटना, थे्रशिंग करना और पुआल साफ करना या भूसा बनाना शामिल है।

प्रश्न: स्ट्रा रीपर किसान की कैसे बचत करता है।

उत्तर: फसल कटाई के बाद खेतों में उपज के अवशेष रह जाते हैं। अवशेषों की कटाई अगर मजदूरों से कराई जाए तो समय और पैसा बहुत अधिक खर्च होता है। स्ट्रा रीपर फसल अवशेषों को बहुत कम समय और खर्चे में काटता है।

प्रश्न: क्या स्ट्रा रीपर पर सब्सिडी मिलती है।

उत्तर: स्ट्रा रीपर पर केंद्र व राज्य सरकारें समय-समय पर सब्सिडी देती हैं। किसान को सरकारी योजनाओं पर नजर रखनी चाहिए।

प्रश्न: किसान स्ट्रा रीपर की उचित कीमत और स्पेसिफिकेशन्स कैसे जान सकते हैं।

उत्तर: ट्रैक्टरगुरु पर विभिन्न कंपनियों के स्ट्रा रीपर कीमत और स्पेसिफिकेशन्स के साथ दिए गए हैं। किसान ट्रैक्टरगुरु पर लॉगिन करके अपनी पसंद के अनुसार स्ट्रा रीपर का चयन कर सकता है।

और भी देखे :

टॉप 10 हार्वेस्टर की विशेषताएं 

खीरे की खेती से कमाई कैसे करें